Home उत्तराखंड 8वीं वाहिनी आई0टी0बी0पी0 ने मनाया बल स्थापना दिवस गौचर,

8वीं वाहिनी आई0टी0बी0पी0 ने मनाया बल स्थापना दिवस गौचर,

18
0

8वी वाहिनी, भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल गौचर के परिसर में हफीजुल्लाह सिद्दीकी सेनानी 8वी वाहिनी के कुशल नेतृत्व एवं निर्देशन में 61वें आई०टी०वी०पी० स्थापना दिवस 2022 को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। स्थापना दिवस के अवसर पर हफीजुल्लाह सिद्दीकी सेनानी 8वी वाहिनी के द्वारा ध्वजारोहण किया गया ध्वजारोहण के दौरान बल की सैन्य टुकड़ी ने परेड के द्वारा सशस्त्र बल ध्वज को सलामी दी तथा सलामी के दौरान सशस्त्र बल गीत गाया ध्वजा रोहण के पश्चात हफीजुल्लाह सिद्दीकी सेनानी द्वारा उपस्थित परिवार गण, अधिकारी गण, अधीनस्थ अधिकारी गण, हिमवीर जवानों को अपने संबोधन के माध्यम से भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के 61वें स्थापना दिवस एवं दीपावली के पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएँ प्रेषित की।

सेनानी हफीजुल्लाह ने अपने संबोधन के माध्यम से बताया कि इस बल का गठन भारत-चीन युद्ध, 1962 के पश्चात भारत की उत्तरी सीमाओं की सुरक्षा एवं निगरानी के मद्देनजर 24 अक्टूबर, 1962 ईस्वी में किया गया था। इस बल के अधिकारियों एवं जवानों की कर्तव्यनिष्ठा के परिणामस्वरूप बल ने अपनी 60 वर्ष की आयु के दौरान कई महत्वपूर्ण उपब्धियां हासिल की हैं जिसके चलते यह बल देश के प्रमुख अर्द्धसैनिक बलों में अपना विशेष स्थान रखता है। आज के परिप्रेक्ष्य में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल के जवान अन्तरराष्ट्रीय सीमा सुरक्षा और देश की शांति व्यवस्था के लिये ना सिर्फ दिन-रात सीमा पर मुस्तैद रहते हैं, बल्कि किसी भी आपदा और संकट के समय में भी बचाव राहत कार्यों के लिये सदैव तत्पर रहते हैं, जिस पर हमें गर्व है।

वाहिनी भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल प्रतिकूल भौगोलिक एवं उच्च हिमालयी क्षेत्र में दिन-रात सीमा की चौकसी में तत्पर है, इसके अतिरिक्त हमारी तैनाती देवभूमि उत्तराखण्ड के धार्मिक एवं पर्यटन स्थल जैसे क्षेत्रों में भी है, जहाँ देश-विदेश के लाखों पर्यटक श्रद्धालु आते हैं, ऐसे में हमारी जिम्मेदारी और अधिक बढ़ जाती है। मुझे अति गर्व है कि सीमा चौकसी के अतिरिक्त 8वी वाहिनी के जवानों के द्वारा हजारों श्रद्धालुओं को प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा प्रदान करने हेतु, बचाव एवं राहत कार्यों को बेहतरीन तरीके से किया जाता रहा है। भविष्य की चुनौतियों के लिए भी हम आम नागरिकों की सुरक्षा व सहायता के लिए तत्पर हैं। संबोधन के उपरान्त परेड कमाण्डर के द्वारा बल स्थापना दिवस परेड़ निष्क्रमण की अनुमति ली गई अनुमति के उपरान्त परेड कमाण्डर द्वारा परेड निष्क्रमण किया गया। परेड निष्क्रमण के उपरान्त सेनानी द्वारा उपस्थित पदाधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से मिलकर बल स्थापना दिवस एवं दीपावली के पावन पर्व की भी बधाईयाँ प्रदान की गई।
उक्त अवसर के द्वितीय सत्र के दौरान आई०टी०बी०पी० परिवार के बच्चों के मनोदैहिक विकास एवं आदर्श नागरिक उत्तरदायित्व की भावना के विकास हेतु बच्चों के मध्य जलेबी दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जवानों के मध्य बोरा दौड़ तीन टांग दौड़, रस्सा कसी प्रतियोगिता तथा हिमवीर महिला सदस्यों के मध्य कुर्सी रेस का आयोजन किया गया। उक्त कार्यक्रम के दौरान हिमवीर परिवारों के बच्चों हेतु प्राकृतिक आपदा से बचाव एवं सेहत से संबंधित च पर्वतारोही उपकरणों के प्रति जागरूकता के मद्देनजर प्रदर्शनी एवं स्टॉल लगाए गए।


अन्त में मुख्य अतिथि के द्वारा प्रतियोगियों को प्रोत्साहन स्वरूप उचित पुरस्कार प्रदान किया गया व दीपावली के पावन पर्व के मद्देनजर मुजफ्फर नसीमा के द्वारा फुलझड़ी प्रज्वलित कर दीपोत्सव को हर्षोल्लास के साथ मनाया तथा मिष्ठान वितरण के उपरान्त कार्यक्रम का समापन किया गया।

Previous articleब्रेकिंग: बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर आया मलबा
Next articleबद्रीनाथ सहित उत्तराखंड के चार धामों के कपाट आज रहेंगे बंद