Home उत्तराखंड उपभोक्ता अपने अधिकारों के प्रति जागरूक बनें – मैठाणी

उपभोक्ता अपने अधिकारों के प्रति जागरूक बनें – मैठाणी

23
0

चमोली: विद्युत उपभोक्ता शिकायत निवारण मंच कर्णप्रयाग मण्डल द्वारा चमोली के दशोली क्षेत्र के ग्राम सभा ठेली मेड़ व नेतोली में शिविर का आयोजन किया गया। इस बीच भारी संख्या में ग्रामीणों ने शिविर में प्रतिभाग किया। हालाँकि यहां उपभोक्ताओं के बिलों व मीटरों से संबंधित शिकायतें कम मिली लेकिन बोल्टेज में उतार चढ़ाव के कारण आए दिन घरेलू उपकरणों जिनमें टीवी फ्रिज पंखे व बल्बों के ख़राब होने की 17 से अधिक शिकायतें दर्ज हुई। जबकि विद्युत् पोल, ट्रांसफॉर्मर व लाइन से जुडी 6 शिकायतें मंच के सम्मुख उपभोक्ताओं ने दर्ज की। उपभोक्ता सदस्य शशि भूषण मैठाणी उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के बारे में विस्तार से जानकारी दी उन्होंने कहा कि मंच का उद्देश्य विद्युत उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करना है। उन्होंने बताया कि जब कभी भी बिल आए तो उसमें दर्ज रीडिंग का हमेशा अपने घर में लगे मीटर कि रीडिंग से अवश्य मिलान किया करें। साथ ही उन्होंने कहा कि मीटर में तकनीकी खामी होने पर विभाग किसी भी उपभोक्ता को दो अधिक बार एन ए, एन आर, आर डी एफ या आर डी एफ के बिल नहीं भेज सकता है। यदि किसी भी उपभोक्ता को दो अधिक बार उक्त से सम्बंधित बिल दिए जाते हैं तो वह तुरंत मंच में अपनी लिखित शिकायत दर्ज कराएं।

तकनीकी सदस्य भूपेंद्र कनेरी ने कहा कि जले मीटर, ख़राब मीटर एवं ट्रांसफार्मर के कारण यदि उपभोक्ताओं को सुचारु रूप से विद्युत् आपूर्ति नहीं मिलती है तो तत्काल मंच में शिकायत दर्ज करें। विद्युत आपूर्ति बाधित होने की दशा में उपभोक्ताओं को मुआवजा दिए जाने का भी प्राविधान है।

कार्यक्रम का संचालन सामजिक कार्यकर्ता एवं पूर्व प्रधान सुरेंद्र रावत ने किया। इस अवसर पर सतीश मैठानी, क्षेत्र पंचायत सदस्य राहुल रावत महिला मंगल अद्ययक्ष कमला देवी, पूर्व प्रधान माहेश्वरी देवी , अब्बल सिंह, बलबीर सिंह, पदम सिंह, पुष्पा देवी, प्रदीप सिंह,धीरज,हरेंद्र सिंह भुवनेश्वरी, कल्याण सिंह, बीरेंद्र सिंह,सुभद्रा देवी, सरस्वति देवी, जमुना देवी, बिनोद रावत, नारायण सिंह,यशवंत सिंह राजेश्वरी देवी सहित अनेकों उपभोक्ताओं ने विद्युत से जुडी अपनी समस्याओं को बारी बारी मंच के सामने रखा।

इसी क्रम में कल यानी 5 दिसंबर को सीजीआरएफ के सदस्य सरतोली, भतंगयाला में व 6 दिसंबर को निजमुला घाटी के शिविरों में उपभोक्ताओं के बीच पहुंचेंगे।