Home उत्तराखंड जिले के विकास को लेकर प्रतिनिधियों और प्रशासन के बीच मंथन शिविर

जिले के विकास को लेकर प्रतिनिधियों और प्रशासन के बीच मंथन शिविर

4
0

चमोली

जिले के विकास का खाका तैयार करने को लेकर सोमवार को जिलाधिकारी हिमांशु खुराना की अध्यक्षता में क्लेक्ट्रेट सभागार में मंथन शिविर आयोजित किया गया। जिसमें स्थानीय जन प्रतिनिधियों, प्रबुद्वजनों, समाजसेवियों एवं जिला स्तरीय अधिकारियों ने अपने विचार व्यक्त करते हुए जनपद के आर्थिक विकास, स्वरोजगार, पलायन रोकथाम, पर्यटन, शिक्षा, कृषि, बागवानी आदि विषयों पर महत्वपूर्ण सुझाव दिए। मंथन शिविर को जिला प्रशासन की एक अच्छी पहल बताते हुए प्रबुद्वजनों ने इसकी सराहना भी की।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिले की आवश्यकताओं के अनुरूप विकास योजनाओं के प्रस्ताव तैयार करने के उदेश्य से मंथन शिविर के माध्यम से सुझाव लिए जा रहे है। ताकि स्थानीय समस्याओं एवं उनके समाधान के हिसाब से विकास योजनाएं बनायी जा सके। उन्होंने कहा कि इसके लिए लगातार संवाद जारी रहेगा। कोई भी अच्छा सुझाव हो तो जरूरी बताएं। जिलाधिकारी ने कहा कि मंथन शिविर में आज जो भी अच्छे सुझाव रखे गए है, उन पर गंभीरता से विचार करते हुए उनका क्रियान्वयन करने का पूरा प्रयास किया जाएगा।

जनप्रतिनिधियों, प्रबुद्वजनों एवं समाजिक कार्यकर्ताओं ने बदरी केदार के अलावा अन्य सिद्वपीठों व प्रयागों को भी धार्मिक पर्यटन सर्किट से जोड़ने, पर्यटन स्थलों एवं ट्रैकिंग मार्गो पर मूलभूत सुविधाओं का विकास, सूक्ष्म, लघु उद्यमों की स्थापना, स्थानीय उत्पादों को बढावा देने, सीमांत एवं पर्वतीय जिले के अनुरूप योजनाएं तैयार करने, जंगली जानवरों की समस्या आदि विषयों पर अपने विचार रखते हुए महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए। इस दौरान कृषि, बागवानी के अलावा एनिमल हसबेंडरी, डेयरी विकास आदि विषयों पर भी मंथन हुआ।

मंथन शिविर में गोपेश्वर नगर पालिका अध्यक्ष पुष्पा पासवान, नंदप्रयाग नगर पंचायत अध्यक्ष हिमानी वैष्णव, सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश प्रसाद तिवारी, देवी प्रसाद पुरोहित, नंदन सिंह बिष्ट, अतुल शाह, लक्ष्मण सिंह नेगी, मोहन सिंह बिष्ट, पुष्कर सिंह रावत, वीरेन्द्र सिंह नेगी, धनसिंह नेगी आदि सहित डीएफओे इन्द्र सिंह नेगी, अपर जिलाधिकारी डा.अभिषेक त्रिपाठी, परियोजना निदेशक आनंद सिंह, मुख्य शिक्षा अधिकारी कुलदीप गैरोला, जिला पर्यटन अधिकारी एसएस राणा एवं समस्त विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।