Home उत्तराखंड उच्च शिक्षा चिंतन शिविर में मुख्य मंत्री ने किया प्रतिभाग

उच्च शिक्षा चिंतन शिविर में मुख्य मंत्री ने किया प्रतिभाग

98
0

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज देहरादून में आयोजित उच्च शिक्षा चिंतन शिविर के अंतर्गत राज्य स्तरीय NAAC प्रत्यायन कार्यशाला एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री धामी ने उच्च शिक्षा संस्थानों पर आधारित “उत्तराखण्ड राज्य के नैक प्रत्यायन की क्वालिटी फैक्ट रिपोर्ट”, “अनुशंसा रिपोर्ट” एवं “इनोवेशन इन हायर एजुकेशन” पुस्तक का विमोचन किया। मुख्यमंत्री धामी की उपस्थिति में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा उत्तराखण्ड राज्य में उच्च शिक्षा संस्थानों के आधुनिकरण, उद्यमिता और कौशल विकास के क्षेत्र में देश के प्रतिष्ठित संस्थान “भारतीय उद्यमिता विकास संस्थान अहमदाबाद” के साथ उद्यमिता संवर्धन हेतु MoU हस्ताक्षरित किया गया साथ ही छात्रों को वर्चुअल लैब की सुविधा प्रदान करने हेतु अमृता विश्वविद्यापीठम् केरल तथा कम्प्यूटर दक्षता और आई0टी0 विशेषज्ञता के लिए एडूनेट आईबीएम के साथ भी MoU किया गया। मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि इस चिंतन शिविर के मंथन से अवश्य ही ज्ञानरूपी अमृत निकलेगा, जो हमारे प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था के क्षेत्र में गुणात्मक सुधार करने में सहायक सिद्ध होगा। मुख्यमंत्री श्री धामी ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में नये भारत की नींव रखी जा रही है। नई शिक्षा नीति के माध्यम से देश की आने वाली पीढ़ी हमारे देश के वास्तविक इतिहास व महान संस्कृति से परिचित हो सकेगी। उन्होंने कहा कि जहां एक पुरानी शिक्षा पद्धति युवाओं को सिर्फ नौकरी दिलाने का उद्देश्य रखती थी, वहीं नई शिक्षा नीति के माध्यम से युवा स्वयं नौकरियां देने वाले बन सकेंगे। इसके माध्यम से युवा इन्टरप्रेन्योर बन सकेगा और स्टार्टअप विकसित कर सकेगा। मुख्यमंत्री श्री धामी ने कहा कि उत्तराखण्ड राज्य के NAAC प्रत्यायन की क्वालिटी फैक्ट एवं अनुशंसा रिपोर्ट उच्च शिक्षा के क्षेत्र में सरकार के कार्य की रूपरेखा निश्चित करने में सहायक सिद्ध होगी। दूरस्थ क्षेत्रों में शिक्षा पहुँचाने के प्रयास में नैक संस्था का पूरा सहयोग मिल रहा है। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, नैक बैंगलुरू के निदेशक प्रो.एस.सी. शर्मा, चांसलर DIT यूनिवर्सिटी श्री एन. रविशंकर, सचिव उच्च शिक्षा श्री शैलेश बगौली, अपर सचिव उच्च शिक्षा प्रशांत आर्य, निदेशक उच्च शिक्षा डॉ. जगदीश प्रसाद सहित अन्य गणमान्य उपस्थित रहे।