Home आलोचना रोड नही तो वोट नही ,15 से अधिक किमी पैदल चलने को...

रोड नही तो वोट नही ,15 से अधिक किमी पैदल चलने को मजबूर ग्रामीणों ने लोकसभा चुनाव बहिष्कार की दी चेतावनी

45
0

आज भी गांव तक पहुंचने के लिए 15से अधिक किमी चलते है पैदल
14करोड़ से अधिक लागत हो चुके है खर्च
15दिन में कार्रवाई नहीं हुई तो करेंगे उग्र आंदोलन
2024 लोक सभा चुनाव बहिष्कार की दी चेतावनी

चमोली: जनपद चमोली के दूरस्थ गांव दुमक कलगोट के ग्रामीण सड़क निर्माण की मांग को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय पहुचे, जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजते हुए ज्ञापन में लिखा कि 15 दिनों में करवाई न होने पर उग्र आंदोलन के साथ लोक सभा चुनाव 2024 के बहिष्कार भी चेतवानी दी।

प्रदेश भर में विकास की योजनाओं के प्रचार प्रसार को लेकर विकसित संकल्प यात्रा के माध्यम से प्रचार प्रसार किया जा रहा है लेकिन दूसरी तरफ दूरस्थ क्षेत्र दुमक कलगोट के ग्रामीण मूल भूत सुविधाओ को लेकर सड़को पर उतरने को मजबूर हो रहे हैं।

कलगोट निवासी प्रेम सिंह सनवाल बताते हैं कि सैजी लग्गा मैकोट, बेमरू निर्माणधीन मोटर मार्ग वर्ष 2007-08 में स्वीकृत हुआ था। इस मोटर मार्ग से दशोली, जोशीमठ विकास खण्ड के दर्जनों गांवों के ग्रामीणों को लाभान्वित होना था लेकिन कार्यदायी संस्था पी०एम०जी०एस०वाई निर्माण खण्ड पोखरी की अनदेखी से आज तक इस मोटर मार्ग का कार्य पूर्ण नहीं हुआ । जिसके कारण विभाग द्वारा 2019 में इस निर्माणधीन मोटर मार्ग का पुनःरीक्षित प्लान बनाया गया । परन्तु विभाग द्वारा पुनरीक्षित प्लान के अनुसार भी मोटर मार्ग निर्माण का कार्य अभी तक पूर्ण नहीं किया गया है। । अपर जिलाधिकारी चमोली के द्वारा अपने पत्र संख्या 5552 दिनाक 27 जून 2022 को उपजिलाधिकारी जोशीमठ एंव अधीशासी अभियन्ता पी०एम०जी०एस०वाई को 15 दिनों के अन्र्तगत समरेखण विवाद-निस्तारण करने हेतु ग्रामीणों के साथ बैठक करने के निदेश दिये थे। लेकिन ग्रामीणों के साथ आजतक कोई बैठक नही की गयी। इसी कम में उप वन संरक्षण केदारनाथ वन प्रभाग चमोली गोपेश्वर ने अपने पत्र संख्या 6585/12-1 दिनांक 23 जून 2023 के माध्यम से अधीशासी अभियन्ता पी०एम०जी०एस०वाई को भी समरेखण पर ग्रामीणों की सहमति हेतु बैठक एंव शिकायत निस्तारण का आग्रह किया गया । लेकिन विभाग द्वारा ग्रामीणों के साथ कोई भी वार्ता नही की गयी। सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि विभाग ने अपनी सुविधानुसार समरेखण का प्रस्ताव शासन को भेजा है।

ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि 15 दिनों के के उपरान्त ग्रामीणों के द्वारा उग्र आन्दोलन किया जाएगा। वही उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले लोक सभा चुनाव का बहिष्कार करने का भी निर्णय लेने को मजबूर होंगे ।
प्रेम सिंह सनवाल ग्रामीण, विनोद सनवाल, लक्ष्मण सिंह विधायक प्रतिनिधि पूर्व प्रधान रविंद्र नेगी आदि मौजूद रहे