Home उत्तराखंड जिलाधिकारी ने ली जलमिशन की बैठक.दिसंबर तक कार्य पूर्ण करने के...

जिलाधिकारी ने ली जलमिशन की बैठक.दिसंबर तक कार्य पूर्ण करने के दिए निर्देश

6
0

*चमोली :जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने गुरूवार को क्लेक्ट्रेट में जल जीवन मिशन के तहत संचालित कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कार्यदायी संस्थाओं को निर्देशित किया कि इस दिसंबर तक जल जीवन मिशन के सभी कार्य पूर्ण करना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी ने कहा कि जल जीवन मिशन एक महत्वाकांक्षी योजना है। सभी कार्यदायी संस्थाएं लक्ष्य निर्धारित करते हुए निर्माण कार्यो में प्रतिदिन प्रगति लाना सुनिश्चित करें। निर्माण कार्यो के दौरान यदि कहीं पर फॉरेस्ट भूमि संबधी बाधा आ रही है, तो संबंधित उप वन क्षेत्राधिकारी से मिलकर समस्या का शीघ्र निस्तारण करें। ऐसी योजनाएं जिनमें संयुक्त सर्वेक्षण पूरा हो गया है उनका कार्य प्रारंभ करें। जिन घरों में एफएचटीसी हो गई है, उनको अपलोड किया जाए। मानसून सीजन में निर्माण कार्यो के लिए अभी से योजना बनाकर कार्य करें। ताकि बारिश के कारण कार्य प्रभावित न हो। उन्होंने निर्देशित किया कि जल जीवन मिशन के कार्यो को हर हाल में इस वर्ष दिसंबर तक पूरा किया जाए। साथ ही मुख्य विकास अधिकारी को प्रत्येक सप्ताह जल जीवन मिशन कार्यो की प्रगति समीक्षा करने को कहा। इस दौरान सभी डिवीजनों के अंतर्गत चल रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा की गई।  

जल संस्थान के अधीक्षण अभियंता सुशील कुमार सैनी ने अवगत कराया कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत में 77650 घरेलू जल संयोजन के सापेक्ष अभी तक 72885 घरेलू जल संयोजन किए जा चुके है और 93.86 प्रतिशत एफएचटीसी का कार्य पूरा कर लिया गया है। अवशेष 4765 घरेलू संयोजन का कार्य प्रगति पर है। पेयजल योजनाओं के पुर्नगठन एवं जल स्रोतों के सुधारीकरण योजनाओं के लिए दो करोड़ से कम लागत की 482 स्वीकृत आंगणन में से 481 के टैडर हो चुके है जिसमें से 406 कार्य प्रगति पर तथा 75 कार्य पूर्ण कर लिए गए है। दो से पांच करोड़ तक की योजनाओं में स्वीकृत 10 योजनाओं में से 9 योजनाओं के टैंडर करने के बाद कार्य प्रगति पर है तथा एक योजना का टैंडर होना है। पांच करोड़ से अधिक की एक योजना में भी कार्य प्रगति पर चल रहा है। जेजेएम के अन्तर्गत आवंटित कुल 903.48 लाख में से 704.89 लाख व्यय हो चुका है।

बैठक में जल संस्थान के अधीक्षण अभियंता सुशील कुमार सैनी, अधीक्षण अभियंता वीके जैन, मिथलेश कुमार, एसके श्रीवास्तव, अरुण प्रताप सिंह, सहायक अभियंता कैलाश चन्द्र, सुरेन्द्र लाल आदि उपस्थित थे।