Home उत्तराखंड प्रशासन और ग्रामीणों की वार्ता रही ...

प्रशासन और ग्रामीणों की वार्ता रही विफल, 12सूत्रीय मांगो को लेकर कपीरी संघर्ष समिति ने चुनाव बहिष्कार की दी है चेतावनी

30
0

कर्णप्रयाग: कपीरी विकास संघर्ष समिति द्वारा क्षेत्र की समस्याओं को लेकर लम्बे समय से चलाए जा रहे आंदोलन व मांगे नहीं माने जाने पर आगामी लोकसभा चुनाओं का बहिष्कार का निर्णय लिए जाने के पश्चात तहसीलदार कर्णप्रयाग सुधा डोभाल, राजस्व निरीक्षक कर्णप्रयाग बिजेंद्र गुसाई, राजस्व उप निरीक्षक अशोक बैरवाल के साथ हुई वार्ता रही विफल । क्षेत्रीय जनता/जनप्रतिनिधि, व कपीरी विकास संघर्ष समिति ने कहा कि लम्बे समय से कपीरी विकास संघर्ष समिति क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर शासन_प्रशासन व संबंधित विभागाध्यक्षों को ज्ञापन के माध्यम से लगभग 12 सूत्रीय मांगों से अवगत कराते आ रहे हैं, लेकिन शासन_प्रशासन ने जनता की समस्याओं को नजर अंदाज किया । मजबूरन कपीरी विकास संघर्ष समिति सहित आम जनता को लोक सभा चुनाओं के बहिष्कार का निर्णय लेना पड़ा । तहसीलदार सुश्री सुधा डोभाल जी के आह्वान पर कपीरी विकास संघर्ष समिति, जनप्रतिनिधियों की वार्ता हुई, लेकिन वार्ता वेनतीजा रही । बैठक में निर्णय लिया गया कि चुनाव बहिष्कार के विषय पर वार्ता केवल विधायक कर्णप्रयाग, कोई भी मंत्री उत्तराखंड सरकार, व जिलाधिकारी चमोली के साथ ही की जायेगी ।


बैठक में निर्णय लिया गया कि कपीरी पट्टी के 11 बूथों पर चार _चार लोगों की टीम जाकर जनता से चुनाव बहिष्कार की अपील करेगी ।
ज्ञात हो कि कपीरी विकास संघर्ष समिति ने फरवरी 27 को उपजिलाधिकारी कर्णप्रयाग के माध्यम से मुख्यमंत्री उत्तराखंड सरकार व जिलाधिकारी चमोली को 12 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा था जिसमें मुख्य रूप से धारडूंगरी_नैनीसैन_बगोली मोटर रोड को स्टेट हाइवे(राज्य मार्ग)घोषित करने, सुमलता_बंसोली _डूंगराखाल_स्यान_कालुसैन_गुनाड मोटर रोड को वन भूमि की स्वीकृति व वित्तीय स्वीकृति देने, सुमलता_ कोलाडुंगरी मोटर रोड को वित्तीय स्वीकृति, ग्वाड_ऋषितोली_किमोली मोटर रोड को वित्तीय स्वीकृति, डोंठला_मोली_मोटर रोड का विस्तार कंडारा नैनीसैन तक की स्वीकृति, कालेश्वर_कांडा_मेखुरा _ कपीरी पैंपिग पेयजल योजना पर कार्य में विलम्ब, योजना पर घटिया निर्माण, पाईप खुले में जोड़ना, बरसती नालों से पाइप लाईन बिछाना आदि की उच्च स्तरीय तकनीकी जांच कमेटी का गठन कर जांच करना, किमोली_से पारतोली तक रोड की स्वीकृति, राजकीय अटल उत्कृष्ट इण्टर कालेज नैनीसैन में शिक्षकों की नियुक्ति, इन्टर कालेज कनखुल में अध्यापकों/प्रधानाध्यापक की नियुक्ति, जनता उच्चतर माध्यमिक विद्यालय उमासैंन के छतिग्रत भवन का नवनिर्माण, कपीरी पट्टी में स्थित सभी स्वास्थ्य केंद्रों में डाक्टरों व फार्मासिस्टों की नियुक्ति, कपीरी क्षेत्र में राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखा सहित कंडारा से कोट_कंडारा तक मोटर रोड की स्वीकृति आदि मांगे थी । लेकिन प्रशासन ने कोई पहल नहीं की जिसके परिणाम स्वरूप लोक सभा चुनावों के बहिष्कार का निर्णय लिया गया ।
बैठक में कपीरी संघर्ष समिति के अध्यक्ष खिलदेव रावत, महामंत्री महिपाल नेगी, संरक्षक नरेंद्र भंडारी, उपाध्यक्ष नीलम जुयाल, भगवान कंडवाल, पुष्कर रावत, देवेंद्र कंडवाल, उत्तम तोपाल, गणेश कुमार, संजय कुमार, राजेश नेगी, भरत रावत, रविंद्र कंडारी, नरेंद्र शास्त्री, भरत तोपाल, प्रेम नेगी, यदुबीरसुरेंद्र पुंडीर, बलवंत पुंडीर, राकेश रावत, राजेंद्र बिष्ट, भगवती खंडूरी, रणजीत लाल, मोहन लाल, राजेंद्र सिंह नेगी, सुशील खंडूरी, बलवंत खत्री, यदुवीर खत्री, संजय कंडवाल, कुंवर तोपाल, संजय रावत, महावीर कंडवाल, जसवंत तोपाल, उमेद तोपाल, दान सिंह, सहित अन्य लोग उपस्थित थे ।