Home उत्तराखंड ग्रामीणों की आपत्ति के बाद पेयजल योजना का कार्य रोका

ग्रामीणों की आपत्ति के बाद पेयजल योजना का कार्य रोका

37
0

चमोली: मुख्यालय गोपेश्वर से लगे गंगोलगांव के ग्रामीणों के एक शिष्ट मंडल ने क्षेत्र के गिमगिन्या तोक के प्राकृतिक स्रोत से देवर खड़ोरा गांव की जलापूर्ति के लिए संचालित की जा रही पेयजल लाइन का विरोध करते पेयजल लाइन निमा्रण कार्य बंद किए जाने की मांग को लेकर अधिशासी अभियंता से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा है।
ग्रामीणों ने कहा कि गांव के गिमगिन्या तोक से प्राकृतिक स्रोत से पेयजल योजना अगर देवर खडोरा गांव के लिए संचालित होती है तो भविष्य में गंगोलगांव ,सगर गांव पर पेयजल संकट मंडरा सकता है । कहा कि देवर खडोरा गांव के लिए बिछाई जा रही पेयजल लाइन को बंद किए जाने को लेकर जिलाधिकारी व विभागीय अधिकारियों से कई बार मुलाकात व पत्राचार किया गया था , बावजूद आज तक स्थिति जस की तस बनी है। कहा कि कई बार विभाग के चक्कर काटने के बाद भी विभाग सिर्फ कोरे आश्वासन ही ग्रामीणों को दे रहा है। जिसको लेकर सोमवार को ग्रामीणों के शिष्ट मंडल ने अधिशासी अभियंता से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपते हुए उग्र आंदोलन की चेतावनी दी जिस

पर अधिशासी अभियंता द्वारा ग्रामीणों के पेयजल लाइन के विरोध पर कार्य को रोके जाने का लिखित आश्वासन दिया गया है। ग्रामीणों ने कहा कि अगर पेयजल योजना पर फिर से कार्य शुरु किया गया तो वे जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन व धरना देंगे। पेयजल निगम के अधिशासी अभियंता विनय कुमार जैन ने बताया कि ग्रामीणों की मांग पर गंगोलगांव सगर गांव के गिमगिन्या तोक से जिस प्राकृति सो्रत से देवर खडोरा गांव के लिए पेयजल लाइन बिछाई जा रही थी , जिस पर विवाद के चलते कार्य को रोक दिया गया है। विवाद सुलझने के बाद ही आगे पेयजल योजना पर कार्य किया जाएगा।

इस अवसर पर पूर्व महिला मंगल दल अध्यक्ष सुशीला रावत, शशि देवी, माला रावत,सुनीता , सरिता, विनीता,भारती,माहेश्वरी देवी, बीना देवी,संगीता देवी,मीना देवी,राजी देवी ,अरविंद , गजेंद्र सिंह, हरीश रावत,दिंगबर ,रविंद्र , पुष्कर , दिलभर सिंह, राकेश , सतेंद्र सिंह सहित कई ग्रामीण शामिल थे।