Home उत्तराखंड मां की कृपा से सब सम्भव: अमावष गिरी जी महाराज

मां की कृपा से सब सम्भव: अमावष गिरी जी महाराज

60
0

कर्णप्रयाग: हर व्यक्ति जीवन में मां की सेवा करता है । मां की सेवा करता है और यदि मां प्रसन्न हो गई तो मनुष्य जीवन न सिर्फ साकार हो जाता है बल्कि सब संभव हो जाता है। यह बात शिवपुराण की कथा के दौरान कथावाचक अमावस गिरी ने कही।
चांदपुर पट्टी के ऐतिहासिक गांव नॉटी में आयोजित शिव महापुराण की कथा के दसवें दिन की कथा सुनाते हुए कथावाचक अमावस गिरी महाराज ने बताया की यूं तो हर कोई मनुष्य मां की यथोचित सेवा करता ही है लेकिन जिस पर मां प्रसन्न हो जाए उसका जीवन न सिर्फ सफल हो जाता है बल्कि उसके लिए सब कुछ सरल और संभव हो जाता है। उन्होंने जीवात्मा की कथा सुनाते हुए कहा कि प्रत्येक जीव को किसी न किसी योनि को भोगना है पर दो पैर वाला बनना है तो सत्कर्म करो नहीं तो तुम कई पैरों वाले बन जाओगे। मां की कृपा देखिए छोटे-छोटे कीटों को कई पैर मिले हैं और विशालकाय हाथी को सिर्फ चार पैर यही कर्मों का फल है। विशालकाय हाथी इतने बड़े शरीर को सिर्फ चार पैरों में ढोता है जबकि उसको कई पैरों की जरूरत थी पर एक छोटा सा कीट उसको कई पैर दिए हैं जबकि उसका छोटा सा शरीर है आप सब विचार करो आपको किस प्रकार का कृत्य करना है जिससे हाथ मिले न कि पैर। इतना हीं मां कृपा जीवात्मा को चतुर्भुज भी बना सकती है।
भैलेश्वर महादेव में महाकाल गिरी जी के सानिध्य में आयोजित हो रही कथा में पुराणाचार्य मनोज नैलवाल, संगीताचार्य मनोज सती, शुभम मैठाणी, ग्राम प्रधान रीना नौटियाल, क्षेत्र पंचायत सदस्य निधि चौहान, पूर्व प्रधान हर्षवर्धन नौटियाल, अरुण मैठाणी, सुभाष नौटियाल, सनोज नौटियाल, विनोद चौहान , अनिल मैठाणी, राजेश चौहान समेत तोली, कनोठ, कफलोड़ी, बैनोली, नैणी, छतोली आदि गांवों से सैकड़ों श्रद्धालु पहुंचे।