Home उत्तराखंड किरूली गांव में पांडव नृत्य के आयोजन से जींवत हुई लोकसंस्‍कृति

किरूली गांव में पांडव नृत्य के आयोजन से जींवत हुई लोकसंस्‍कृति

18
0

पीपलकोटी! सीमांत जनपद चमोली के किरूली गाँव में 14 दिसम्बर से पांडव नृत्य का आयोजन हो रहा है। पांडव के पात्र अपने अस्त्र-शस्त्र के साथ नृत्य कर रहें हैं। पांडव नृत्य के आयोजन से गांव में रौनक लौट आई है। गौरतलब है कि पांडव नृत्य का आयोजन पांडवो की याद में और घर गाँवों में खुशहाली के लिए किया जाता है। लोक मान्यता यह भी है पांडव नृत्य करने के बाद गोवंश में होने वाला खुरपका रोग भी ठीक हो जाता है।

ये है किरूली गांव में पांडव नृत्य का कार्यक्रम!

14 दिसम्बर 2023 — प्रराम्भ
15 दिसम्बर 2023 — बाण निकालना (अस्त्र/शस्त्र)
16 दिसम्बर से 19 दिसम्बर 2023 – पांडव नृत्य
20 दिसम्बर 2023 — मोरी डाली (सल्ला)
21 दिसम्बर 2023 — केला पेड़
22 दिसम्बर 2023 — पंय्या डाली/ नारायण भगवान ब्यो और गेंडा वध कौथिग
23 दिसम्बर — गंगास्नान/ जलजात्रा
24 दिसम्बर — ब्रह्मभोज/ सामूहिक भोज/ समापन