Home उत्तराखंड वन्य जीव तस्कर, गुलदार की खाल सहित गिरफ्तार, एसपी चमोली ने...

वन्य जीव तस्कर, गुलदार की खाल सहित गिरफ्तार, एसपी चमोली ने पुलिस टीम को 5हजार रुपये इनाम की घोषणा की

95
0

चमोली: चमोली पुलिस ने गुलदार की खाल के साथ 1 तस्कर को गिरफ्तार किया, विभिन्न धाराओं में मामला हुवा दर्ज।

पुलिस अधीक्षक चमोली द्वारा सभी थाना प्रभारियों एवं एसओजी प्रभारी को मादक पदार्थो के तस्करों पर नकेल कसने के अतिरिक्त वन्य जीवों के अंगों की तस्करी करने वालों पर सर्तक दृष्टि रखते हुए अपराध को अंजाम देने वालों के विरूद्व कड़ी कार्यवाही के निर्देश पर सभी प्रभारियों द्वारा लगातार चैकिंग एवं आवश्यक कार्यवाही करते हुए संदिग्धों पर सर्तक नजर रखी जा रही है। पुलिस अधीक्षक के आदेशानुसार, पुलिस उपाधीक्षक ऑपरेशन नताशा सिंह के निर्देशन में वन्य जीव जन्तुओं की तस्करी की रोकथाम हेतु चलाये गये अभियान के क्रम में एसओजी चमोली द्वारा पोखरी रोड वन विभाग नर्सरी के पास थाना गोपेश्वर पर चेकिंग के दौरान एक अभियुक्त * को खाल के साथ गिरफ्तार किया।
पुलिस टीम द्वारा खाल की पहचान करने हेतु तत्काल मौके पर वन विभाग की टीम को बुलाया गया। जिस पर वन दरोगा डबल सिंह द्वारा जंगली जानवर की खाल का जांच कर गुलदार की खाल होना बताया।
उक्त सम्बन्ध में अभियुक्त से पूछताछ पर बताया गया कि उसने गुलदार को 6 माह पूर्व जंगल में फांस लगाकर मारा गया जिसकी हड्डियों को जंगल में अपनी छान के पास दफनाया गया जिसकी बरामदगी के प्रयास वन विभाग टीम द्वारा किए जा रहे हैं।

*अभियुक्त का आपराधिक इतिहास* अभियुक्त ठेकेदारी का काम करता है व वर्ष 2019 में आबकारी विभाग द्वारा अवैध शराब के साथ गिरफ्तार किया जा चुका है। इसके अलावा अभियुक्त के आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

बरामद माल-* प्रतिबंधित वन्य जीव गुलदार (लैपर्ड) की खाल मय दांत सहित बरामद किया, जिसका अंतराष्ट्रीय बाजार में कुल कीमत 02 लाख रूपये है।

*गिरफ्तारी टीम*

*पुलिस टीम*
उप0नि0 नवनीत भंडारी( प्रभारी एसओजी)
कां0 मनमोहन (एसओजी)
कां0 चंदन नगरकोटी (एसओजी)
कां0 संजय बलूनी (एसओजी)

*वन विभाग*
वन दरोगा गोपेश्वर प्रभारी डबल सिंह
आरक्षी चंद्र मोहन

पुलिस अधीक्षक चमोली द्वारा टीम के उत्साहवर्धन हेतु ₹ 5000/- नगद कैश रिवॉर्ड देने की घोषणा की गई। इसके अतिरिक्त केदारनाथ वन प्रभाग के डीएफओ श्री इंद्र सिंह नेगी द्वारा भी पुलिस टीम का उत्साह वर्धन करते हुए अलग से प्रशस्ति पत्र देने की घोषणा की गई।