Home उत्तराखंड नवदंपति ने रोपे फलदार मैती पौधा

नवदंपति ने रोपे फलदार मैती पौधा

3
0

गिरसा गांव की दिव्या पंवार ने अपने पति के साथ रोपा फलदार पौधा
पर्यावरणविद्ध मनोज सती नें कराया पौधारोपण
विगत 10 सालो में लगा चुके है हजारो पेड
मेरा विद्यालय मेरा पेड के अंतर्गत कर चुके है 100 से अधिक पेड
अपने वेतन से प्रत्येक महीने गरीब छात्र छात्राओ की सहायता के लिए करतें हैं दो हजार रुपये जमा

कर्णप्रयाग।

शिक्षक और पर्यावरणविद्ध मनोज सती नें गिरसा गांव निवासी और राजकीय जूनियर हाईस्कूल तेफना में कार्यरत अध्यापक जगदीश पंवार की सुपुत्री दिव्या पंवार की शादी पर नवयुगल के द्वारा मैती फलदार पौधे का रोपण किया। मनोज सती ने दिव्या और उनके पति बलवीर को दाम्पत्य जीवन शुरू करने की बधाई व शुभकामनाएं दी। दोनो नव दंपति ने शिक्षक व पर्यावरणविद्ध मनोज सती के पर्यावरण संरक्षण के प्रयासो की सराहना की।

गौरतलब है कि शिक्षक मनोज सती चमोली जिले के लंगासू गांव के निवासी है जो विगत 10 बरसो से पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र मे उल्लेखनीय कार्य कर रहे हैं। मनोज सती नें पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए वर्ष 2017 में मेरा विद्यालय मेरा पेड़ की शुरुआत की थी जिसमे अभी तक वे 100 से अधिक पौधों का वितरण कर चुके हैं। मनोज सती मैती संस्था के समन्वयक भी हैं और ये अपने क्षेत्र में होने वाली शादियों में नवदंपति को पौधे उपलब्ध करा के मैती वृक्षारोपण सम्पन्न कराते हैं। उन्होंने अब तक सैकड़ों शादियों में पौधारोपण कराया है। इसके अलावा वे अपने गांव के ऊपरी भाग में हर वर्ष बांज की पौधों का गांववासियों की सहयोग से वृक्षारोपण करते हैं। जिसमें लगभग 500 से अधिक बांज के पौधे तैयार हो चुके थे लेकिन अप्रैल प्रथम सप्ताह में आज किसी अराजक तत्व ने उक्त जंगल में आग लगा दी थी जिस कारण पूरा जंगल आग की भेंट चढ गया था। बकौल मनोज सती वर्ष 2017 से इस जंगल को तैयार करने के लिए मैंने बहुत प्रयास किया। पेड़ों को अपने कंधे में लाद करके मिट्टी को तैयार करके पौधों को तैयार करके गड्डा को खुदवा करके दीवार लगवा करके अनेक प्रयास करने के बावजूद में इस जंगल को तैयार किया था। मैं हिम्मत नहीं हारूंगा जंगल को पुनः तैयार करूंगा।

शिक्षक मनोज सती अपने वेतन से प्रत्येक महीने गरीब छात्र छात्राओ की सहायता के लिए दो हजार रुपये जमा करते हैं और नए सत्र शुरू होने पर गरीब छात्र छात्राओ को कपड़ा, स्टेशनरी का सामान, फीस आदि मुहैया कराते हैं। उन्होंने अपने विद्यालय को स्वच्छ और खूबसूरत बना रखा है। सती ने अपने घर में कई प्रजातियों की अलग-अलग नर्सरी भी बना रखी हैं। मनोज सती नें उनके द्वारा निर्मित कई विद्यालयों को गौरैया के घोसले भी वितरित किए। लोकसभा चुनाव को यादगार बनाने के लिए मनोज सती के सहयोग से मतदान कर्मियों ने बदरीनाथ विधानसभा के बंगथल विद्यालय मेंढ मतदान संपन्न कर पौध रोपण करके लोगों को पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश दिया गया।

शिक्षक मनोज सती को पर्यावरण के लिए उल्लेखनीय कार्य करने के लिए विभिन्न मंचो पर दर्जनो सम्मान मिल चुके हैं। जिसमें वसुंधरा अमृत सम्मान, सुंदरलाल बहुगुणा वृक्ष मित्र सम्मान, समलौण सम्मान, मैती सम्मान, गौरा देवी सम्मान सहित अनगिनत पुरस्कार शामिल हैं।