Home उत्तराखंड बद्रीनाथ में मास्टर प्लान के तहत कार्य कर रहे कम्पनी के पी.एम....

बद्रीनाथ में मास्टर प्लान के तहत कार्य कर रहे कम्पनी के पी.एम. ने पुलिस पर लगाया पीटने का आरोप,

22
0

उत्तराखण्ड: बद्रीनाथ में मास्टर प्लान के तहत निर्माण कार्य करने में जुटे कम्पनी के पी.एम को पीटने का पुलिस पर आरोप,आरोपी पुलिसकर्मियों पर कार्यवाही की माँग को लेकर धाम में धरना
बद्रीनाथ धाम: बद्रीनाथ धाम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट (बद्रीनाथ मास्टर प्लान) का कार्य करवा रही गावर कंट्रक्शन कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर विनीत कुमार के ऊपर देर रात तीन पुलिसकर्मियों द्वारा हमला कर मारपीट करने का आरोप लगा हैं।तीनों पुलिसकर्मी वीआईपी ट्रैफ़िक ड्यूटी के लिए चमोली से बद्रीनाथ धाम पहुँचे थे।इसी बीच सड़क पर गाड़ी पार्किंग को लेकर उनका विवाद निर्माण कार्य की मॉनिटरिंग करने के लिए गए गावर कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर से हो गया।विवाद इतना बड़ा कि मामला हाथापाई तक पहुँच गया।मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों के ऊपर कार्यवाही करने को लेकर बद्रीनाथ धाम में आज पूरे दिनभर गावर कंपनी ने मास्टरप्लान का कार्य बंद रख धरना दिया।
पुलिसकर्मियों पर कार्यवाही की माँग को लेकर धरना देते गावर कंपनी के कर्मचारी
गावर कंपनी के डिप्टी प्रोजेक्ट मैनेजर विवेक ने बताया कि बीती रात को शेषनेत्र झील के पास कंपनी के द्वारा निर्माण कार्य करवाया जा रहा था,बीच सड़क एक टैक्सी नंबर ऑर्टिका कार खड़ी थी,जिससे सीमेंट से भरी मिक्सर मशीनो से काम करने में दिक़्क़त आ रही थी,मौके पर मौंजूद प्रोजेक्ट मैनेजर विनीत कुमार ने गाड़ी हटवाने को लेकर गाड़ी में बैठे लोगो से कहा तो उन्होंने गाड़ी हटाने से मना कर दिया,जिसके बाद पीएम ने गाड़ी की फ़ोटो लेकर थाने में भेजनी चाही,तो गाड़ी से उतरकर तीनों लोगो ने फ़ोटो लेने का विरोध करते हुए प्रोजेक्ट मैनेजर की पिटाई कर दी,जिसके बाद वह प्रोजेक्ट मैनेजर विनीत कुमार को पीटते पीटते थाने में ले गये,किसी तरह विनीत कुमार ने मुझे घटना की जानकारी दी,जिसके बाद हम अपने कर्मचारियों को लेकर थाने में गये,हमारे साथ भी पुलिसकर्मियों ने बदसलूकी की,जब थाने में मजदूरो की भीड़ हो गई तो,तब जाकर थानाध्यक्ष ने सोमवार सुबह को दौनो पक्षों की बाते सुनकर कार्यवाही का आश्वासन दिया,लेकिन आज भी कार्यवाही नहीं की गई और पुलिस के द्वारा हमारे ऊपर ही मुक़दमा दर्ज करने की धमकी दी गई,जिसके बाद आज से कंपनी के द्वारा मास्टर प्लान का कार्य दोषियों के ऊपर विभागीय कार्यवाही और माफ़ीनामा देने की माँग तक रोका गया हैं।मौके पर पहुँचे जोशीमठ के उपज़िलाधिकारी से प्रोजेक्ट मैनेजर की वार्ता चल रही हैं।पुलिस कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक़ एसडीएम जोशीमठ और कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर के बीच हुई वार्ता के बाद दौनों पक्षों के बीच आपसी सहमति के बाद समझौता हो गया हैं।