Home उत्तराखंड बद्रीनाथ में पंडा पंचायत के साथ स्थानीय लोग सरकार और प्रशासन...

बद्रीनाथ में पंडा पंचायत के साथ स्थानीय लोग सरकार और प्रशासन के खिलाप क्यो कर रहे हैं प्रदर्शन

94
0

चमोली: बद्रीनाथ में व्यवस्थाओ को लेकर पंडा पंचायत समाज और स्थानीय व्यपारी एवम लोग नाराज, 3नम्बर गेट बंद किये जाने और स्थानीय लोगो को परेशान किये जाने से है आक्रोशित, सरकार और प्रशासन के खिलाप कर रहे हैं प्रदर्शन।

12 मई को भगवान बद्री विशाल के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं, हजारों की संख्या में श्रद्धालु भगवान बद्री विशाल के दर्शनों के लिए पहुंचे, बद्री केदार मंदिर समिति और जिला प्रशासन की ओर से व्यवस्थाओं में काफी कुछ फेर बदल किए जाने पर सोमवार को पंडा पंचायत समाज और स्थानीय लोगों ने इस पर नाराजगी जताते हुए प्रदर्शन किया। पंडा पुरोहित समाज का कहना है कि सैकड़ो वर्षों से वे यहां के हक्क हकूक धारी हैं और यहां की व्यवस्थाओं को लेकर हमेशा से अपनी जिम्मेदारियां को बखूबी समझते रहे हैं, लेकिन जिस तरह से बद्री केदार मंदिर समिति और प्रशासन की मिली भगत से स्थानीय लोगों को रोकने और टोकने के लिए जगह-जगह गेट लगाए गए हैं बामणी गांव को जाने वाला रास्ते को बंद कर दिया गया है स्थानीय हकहकूक धारी को भी मंदिर तक पहुंचाने के लिए कई तरह की बंदिशे लगाई गई है वह ठीक नहीं है इस दौरान बद्रीनाथ धाम में जहां नारायण के जयकारों से गुजरा था वहीं सरकार और प्रशासन के विरोध में प्रदर्शनकारियो ने जमकर नारेबाजी की।
स्थानीय व्यवसाई मुकेश और कान्हा चौहान ने बताया कि गेट नम्बर 3 को बंद करने से स्थानीय लोग ओर व्यपारी प्रभावित हो रहे हैं, केवल वीआईपी को महत्व देना स्थानीय लोगो के हको के साथ खिलवाड़ करना है,
वही मन्दिर समिति ओर प्रशासन का कहना है कि यात्रा के साथ दर्शन सुब्यवस्थित हो सके इसके लिए ब्यवस्था की गई है।