Home उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक ने बद्रीनाथ धाम में शीतकालीन सुरक्षा ब्यवस्था का लिया जायजा

पुलिस महानिदेशक ने बद्रीनाथ धाम में शीतकालीन सुरक्षा ब्यवस्था का लिया जायजा

15
0

*पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड श्री अशोक कुमार(IPS) द्वारा बद्रीनाथ धाम की शीतकालीन सुरक्षा व्यवस्था का निरीक्षण कर आगामी चार धाम यात्रा की व्यवस्थाओं का परीक्षण कर पुलिस अधीक्षक चमोली को व्यापक दिशा निर्देश*

पुलिस महानिदेशक द्वारा मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था में ड्यूटीरत आइ.टी.बी.पी के जवानों से भेंटकर उन्हें फल तथा मिष्ठान वितरित किया।
बद्रीनाथ धाम में वर्तमान में चल रहे, मास्टर प्लान निर्माण कार्य में मंदिर परिसर में स्थाई पुलिस चौकी तथा मंदिर सुरक्षा गार्द के लिए नजदीक में भवन बनाने के लिए जिला प्रशासन तथा शासन स्तर पर पत्राचार के निर्देश देने के साथ ही मंदिर तथा बद्रीनाथ धाम के सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रभावी सी.सी.टी.वी द्वारा कवरेज दिए जाने, तथा वर्षभर कवरेज की व्यवस्था करने हेतु पुलिस संचार के अपर पुलिस महानिदेशक तथा जनपद के आर आई रेडियो को निर्देशित किया गया। बद्रीनाथ धाम में आने वाले श्रद्धालु पर्यटक बड़ी संख्या में देश के प्रथम गांव माणा तथा आगे वसुधारा के लिए जाते हैं इसलिए माणा पर भी देखरेख पुलिस चौकी बनाया जाना आवश्यक है क्योंकि अब बद्रीनाथ धाम में रहने लायक मौसम हो गया है और निर्माण कार्य चल रहे हैं इसलिए बद्रीनाथ के कपाट खोले जाने से पूर्व ही बद्रीनाथ थाना ऑपरेशन में कार्य करें इसके लिए पुलिस अधीक्षक चमोली को निर्देशित किया गया।
पुलिस महानिदेशक द्वारा बद्रीनाथ आने को आवंटित भूमि का निरीक्षण कर पर्याप्त संख्या में अस्थाई आवास बनाए जाने हेतु भी पुलिस अधीक्षक चमोली को निर्देशित किया , निरीक्षण के दौरान पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड द्वारा आइटीबीपी कैंप माणा का भी भ्रमण कर जवानों का मनोबल बढ़ाने के लिए उनके साथ सुरक्षा और उनके कल्याण का संवाद स्थापित किया।
निरीक्षण के दौरान पुलिस महानिदेशक के साथ पुलिस अधीक्षक चमोली प्रमेन्द्र डोबाल, आइटीबीपी के कमांडेंट विजय कुमार उपाधीक्षक चमोली प्रमोद शाह, उपाधीक्षक गोपेश्वर नताशा,मंदिर समिति के उपाध्यक्ष किशोर पंवार तथा अन्य कार्मिक भी उपस्थित रहे।
अंत में पुलिस महानिदेशक में सभी जनपद के अधिकारियों तथा सुरक्षा में लगे कर्मचारियों को आगामी चार धाम यात्रा को सुरक्षित एवं सुविधाजनक संपन्न कराए जाने हेतु पूर्ण मनोयोग से कार्य किए जाने के लिए प्रेरित तथा निर्देशित किया।